अजय माकन के खिलाफ लामबंद हुआ गहलोत खेमा, दिल्ली कूच कर आलाकमान को बतायेगा वस्तुस्थिति।

जयपुर ब्यूरो रिपोर्ट।
राजस्थान में मुख्यमंत्री पद को लेकर चल रही लड़ाई अब सड़कों पर आ चुकी है, इसे लेकर जहां गया गहलोत-पायलट खेमे आमने-सामने हैं तो प्रदेश प्रभारी अजय माकन भी गहलोत खेमे के निशाने पर हैं। माकन के खिलाफ आक्रमक रूख अपनाए जाने की गहलोत कैंप ने तैयारी की है। जानकारों की माने तो सोमवार शाम मंत्री शांति धारीवाल के आवास पर हुई बैठक में अजय माकन के खिलाफ मोर्चा खोलने की रणनीति पर मंथन हुआ था और उसी के बाद मंत्री शांति धारीवाल ने सोमवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस बुलाकर प्रदेश प्रभारी अजय माकन पर गंभीर आरोप लगाए थे। धारीवाल ने आरोप लगाते हुए कहा था कि अजय माकन अशोक गहलोत को मुख्यमंत्री पद से हटाने के लिए लंबे समय से षड्यंत्र कर रहे हैं।
दिल्ली कूच की तैयारी में गहलोत कैंप।
विश्वस्त सूत्रों की माने तो अजय माकन के खिलाफ गहलोत कैंप दिल्ली कूच की तैयारी में है। बताया जाता है कि अगर गहलोत कैंप के मंत्रियों के खिलाफ प्रभारी अजय माकन ने अनुशासनात्मक कार्रवाई की या अनुशंसा करते हैं तो फिर गहलोत खेमा दिल्ली जाकर पार्टी आलाकमान से मुलाकात करेगा और प्रभारी अजय माकन को पद से हटाने की मांग करेंगे। जिस तरह से सोमवार को मंत्री शांति धारीवाल ने प्रदेश प्रभारी अजय माकन के खिलाफ आक्रामक तेवर दिखाए थे उससे ही साफ है कि अशोक गहलोत कैंप अजय माकन को ज्यादा दिन प्रदेश प्रभारी के तौर पर नहीं देखना चाहता है।
विवाद बढ़ा तो आलाकमान निकालेगा बीच का रास्ता।
चर्चा है कि जिस तरह से गहलोत खेमे ने अजय माकन के खिलाफ मोर्चा खोला हुआ है, उससे विवाद और बढ़ने की आशंका है। अगर गहलोत खेमा दिल्ली जाकर पार्टी आलाकमान से अजय माकन को हटाए जाने की मांग करता है तो उसके बाद आलाकमान भी कोई बीच का रास्ता निकालेगा। वैसे भी जिस तरह से आलाकमान ने मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ को राजस्थान का मसला हैंडल करने के निर्देश दिए हैं उससे भी साफ है कि कोई बीच का रास्ता निकल सकता है।
सियासी संकट में प्रभारी पांडे को हटाया था।
दरअसल जुलाई 2020 में सचिन पायलट कैंप की बगावत के बाद पार्टी आलाकमान के बुलावे पर पायलट कैंप ने वार्ता के दौरान तत्कालीन प्रदेश प्रभारी अविनाश पांडे पर पक्षपात करने करने के आरोप लगाए थे, जिसके बाद पार्टी आलाकमान ने प्रभारी अविनाश पांडे को राजस्थान के प्रभारी पद से हटा दिया था और उनकी जगह अजय माकन को नया प्रभारी बनाया गया था। अब उसी तरह के हालात फिर से बनने लगे हैं, ऐसे में माना जा रहा है कि राजस्थान में चल रहे सियासी संकट का खमियाजा अजय माकन को उठाना पड़ सकता है।
धारीवाल ने लगाए थे माकन पर षड़यंत्र रचने के आरोप।
इससे पहले मंत्री शांति धारीवाल ने सोमवार रात अपने आवास पर प्रेस कांफ्रेंस के दौरान प्रदेश प्रभारी अजय माकन पर गंभीर आरोप लगाते हुए षड़यंत्र रचने के आरोप लगाए थे। धारीवाल ने कहा था कि अजय माकन लंबे समय से अशोक गहलोत को मुख्यमंत्री पद से हटाने का षड़त्र रच रहे हैं और विधायकों पर दबाव बना रहे हैं, उनके पास इसके सबूत मौजूद हैं और अग पार्टी आलाकमान सबूत मांगेगा तो वो सबूत पेश कर देंगे।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack